हेयर केराटिन ट्रीटमेंट करवाने का है प्लान तो, जान लें इसके फायदे और नुकसान

by admin
हेयर केराटिन ट्रीटमेंट करवाने का है प्लान तो, जान लें इसके फायदे और नुकसान

[ad_1]

आजकल सभी को बालों से जुड़ी कोई न कोई परेशानी जरूर है. बालों का उलझना, बालों का टूटना, बाल फ्रीज़ी होना आम परेशानियां हैं. ऐसे में लोग इन परेशानियों से मुक्त होने के लिए तरह-तरह के नुस्खों को अपनाते हैं. कुछ लोग इन समस्याओं के लिए घरेलू उपाय करते हैं, तो कई ऐसे शैम्पू, कंडीशनर और हेयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते हैं, जो उनके बालों के लिए फायदेमंद साबित होते हैं. बालों की इन समस्याओं को दूर करने के लिए लोग केराटिन प्रोटीन हेयर ट्रीटमेंट करवाते हैं. हेयर एक्सपर्ट्स की मानें तो इससे बालों की यह परेशानियां काफी हद तक कम हो जाती हैं. दरअसल यह ट्रीटमेंट, फ्रीज़ी और उलझे बालों को मैनेज करने के लिए काफी फेमस है, क्योंकि यह ट्रीटमेंट बालों को स्मूथ और स्ट्रेट कर देता है. लेकिन इसके फायदों के साथ कुछ नुकसान भी हैं. अगर आप भी अपने उलझे और फ्रीज़ी बालों से परेशान हैं और सोच रहे है केराटिन ट्रीटमेंट करवाने के बारे में, तो पहले कुछ बातें जान लें. हम आपको बता रहे हैं कि केराटिन ट्रीटमेंट क्या होता है? इसके फायदे क्या हैं और नुकसान क्या हैं. 
हेयर केराटिन ट्रीटमेंट क्या होता है?आपको बता दें इस ट्रीटमेंट का पूरा नाम केराटिन प्रोटीन है और यह बालों को स्मूथ, शाइनिंग और स्ट्रैट बनाने में मदद करता है. दरअसल आजकल की लाइफस्टाइल में धूप, प्रदूषण आदि के वजह से बाल उलझने, टूटने, फ्रीज़ी होने लगते हैं. इसकी वजह बालों में प्रोटीन की मात्रा कम होना भी है. इससे बालों को कई तरह की परेशानियां होने लगती हैं. ऐसे में बालों को जरूरी तत्त्व नहीं मिल पाते हैं और इसी कमी को पूरा करता है यह ट्रीटमेंट. इस ट्रीटमेंट के जरिये बालों में आर्टिफिशियल केराटिन डाला जाता है इस तरह से बालों में प्रोटीन रिस्टोर होने लगता है और बाल सिल्की, शाइनी, सुलझे हुए लगते हैं. यह ट्रीटमेंट बालों की सारी परेशानियों को दूर कर देता है. 
केराटिन ट्रीटमेंट के फायदे
1- इससे बालों को मैनेज करने में आसानी होती है, जिससे बालों की स्मूथनेस बढ़ जाती है.
2- इस ट्रीटमेंट के बाद बाल सिल्की, शाइनी और ग्लॉसी दिखने लगते हैं.
3- यह बालों को स्ट्रेट कर देता है जिससे आपको अलग-अलग हेयर स्टाइल्स बनाने में आसानी होती है.
4- यह बालों को धूप की किरणें और प्रदूषण से बचाता है साथ ही ऐसे में बाल उलझते भी नहीं है.
केराटिन ट्रीटमेंट के नुकसान
1- इस ट्रीटमेंट के बाद बाल जल्दी ऑयली और ग्रीसी होने लगते हैं.
2- इस ट्रीटमेंट के बाद, आप अपने हिसाब से हेयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं.
3- यह बालों को इतना स्ट्रेट कर देता है कि बालों से वॉल्यूम तो मानो गायब ही हो जाता है.
4- इस ट्रीटमेंट को करवाने के कुछ दिन बाद तक आप अपने बालों को धो भी नहीं सकते हैं.
ये भी पढ़ें: शरीर के लिए बीटा कैरोटीन क्यों है जरूरी? जानिए कौन सी चीजों में पाया जाता है और क्या हैं इसके फायदे

आजकल सभी को बालों से जुड़ी कोई न कोई परेशानी जरूर है. बालों का उलझना, बालों का टूटना, बाल फ्रीज़ी होना आम परेशानियां हैं. ऐसे में लोग इन परेशानियों से मुक्त होने के लिए तरह-तरह के नुस्खों को अपनाते हैं. कुछ लोग इन समस्याओं के लिए घरेलू उपाय करते हैं, तो कई ऐसे शैम्पू, कंडीशनर और हेयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते हैं, जो उनके बालों के लिए फायदेमंद साबित होते हैं. बालों की इन समस्याओं को दूर करने के लिए लोग केराटिन प्रोटीन हेयर ट्रीटमेंट करवाते हैं. हेयर एक्सपर्ट्स की मानें तो इससे बालों की यह परेशानियां काफी हद तक कम हो जाती हैं. दरअसल यह ट्रीटमेंट, फ्रीज़ी और उलझे बालों को मैनेज करने के लिए काफी फेमस है, क्योंकि यह ट्रीटमेंट बालों को स्मूथ और स्ट्रेट कर देता है. लेकिन इसके फायदों के साथ कुछ नुकसान भी हैं. अगर आप भी अपने उलझे और फ्रीज़ी बालों से परेशान हैं और सोच रहे है केराटिन ट्रीटमेंट करवाने के बारे में, तो पहले कुछ बातें जान लें. हम आपको बता रहे हैं कि केराटिन ट्रीटमेंट क्या होता है? इसके फायदे क्या हैं और नुकसान क्या हैं. 

हेयर केराटिन ट्रीटमेंट क्या होता है?
आपको बता दें इस ट्रीटमेंट का पूरा नाम केराटिन प्रोटीन है और यह बालों को स्मूथ, शाइनिंग और स्ट्रैट बनाने में मदद करता है. दरअसल आजकल की लाइफस्टाइल में धूप, प्रदूषण आदि के वजह से बाल उलझने, टूटने, फ्रीज़ी होने लगते हैं. इसकी वजह बालों में प्रोटीन की मात्रा कम होना भी है. इससे बालों को कई तरह की परेशानियां होने लगती हैं. ऐसे में बालों को जरूरी तत्त्व नहीं मिल पाते हैं और इसी कमी को पूरा करता है यह ट्रीटमेंट. इस ट्रीटमेंट के जरिये बालों में आर्टिफिशियल केराटिन डाला जाता है इस तरह से बालों में प्रोटीन रिस्टोर होने लगता है और बाल सिल्की, शाइनी, सुलझे हुए लगते हैं. यह ट्रीटमेंट बालों की सारी परेशानियों को दूर कर देता है. 

केराटिन ट्रीटमेंट के फायदे

1- इससे बालों को मैनेज करने में आसानी होती है, जिससे बालों की स्मूथनेस बढ़ जाती है.

2- इस ट्रीटमेंट के बाद बाल सिल्की, शाइनी और ग्लॉसी दिखने लगते हैं.

3- यह बालों को स्ट्रेट कर देता है जिससे आपको अलग-अलग हेयर स्टाइल्स बनाने में आसानी होती है.

4- यह बालों को धूप की किरणें और प्रदूषण से बचाता है साथ ही ऐसे में बाल उलझते भी नहीं है.

केराटिन ट्रीटमेंट के नुकसान

1- इस ट्रीटमेंट के बाद बाल जल्दी ऑयली और ग्रीसी होने लगते हैं.

2- इस ट्रीटमेंट के बाद, आप अपने हिसाब से हेयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं.

3- यह बालों को इतना स्ट्रेट कर देता है कि बालों से वॉल्यूम तो मानो गायब ही हो जाता है.

4- इस ट्रीटमेंट को करवाने के कुछ दिन बाद तक आप अपने बालों को धो भी नहीं सकते हैं.

ये भी पढ़ें: शरीर के लिए बीटा कैरोटीन क्यों है जरूरी? जानिए कौन सी चीजों में पाया जाता है और क्या हैं इसके फायदे

[ad_2]

Source link

You may also like