Upwas Ke Niyam: पहली बार रख रहे हैं उपवास, तो इन नियमों का पालन करना है ज़रूरी

by admin
Upwas Ke Niyam: पहली बार रख रहे हैं उपवास, तो इन नियमों का पालन करना है ज़रूरी
Upwas Ke Niyam: पहली बार रख रहे हैं उपवास, तो इन नियमों का पालन करना है ज़रूरी

[ad_1]

Upwas Ke Niyam: हिंदू धर्म में तमाम तरह के व्रत ईश्वरीय कृपा पाने से लेकर तमाम तरह की मनोकामनाओं को पूरा करने के लिए किया जाता है. इसलिए व्रत रखते समय कुछ बातों का खास ध्यान रखना चाहिए .

हिंदू धर्म के अनुसार व्रत का संकल्प हमेशा शुभ मुहूर्त या ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करने के बाद ही लें. 
यह समय बहुत ही शुभ माना जाता है.संकल्प के बिना व्रत अपूर्ण माना जाता है इसलिए कितनी संख्या में और कब तक व्रत करना है, इसका संकल्प व्रत प्रारंभ करने के लिए पूर्व कर लेना चाहिए.
व्रत रखने की सोच रहे हैं तो किसी शुभ मुहूर्त में ही आरंभ करें ताकि यह बिना किसी बाधा या रुकावट के पूर्ण हो सके.
व्रत वाले दिन किसी के प्रति ईष्र्या, द्वेष, गुस्सा आदि नहीं करें .व्रत वाले दिन अधिक से अधिक समय तक मौन रहते हुए अपने इष्टदेव से जुड़े मंत्र का जप करें. 
व्रत रखने वाले व्यक्ति को हमेशा व्रत से जुड़े नियमों का पालन करें.
व्रत के दिन प्रातः काल स्नान करके घर और पूजा स्थल की अच्छे से सफाई करें.
भगवान की मूर्ति पर पूजा स्थल पर स्थापित करके ही उनकी पूजा करें.
पूजा हमेशा विधि विधान एंव मंत्रों के साथ करें.
व्रत के दिन सुबह जल्दी स्नान करके स्वच्छ वस्त्र धारण करें. 
व्रत के दिन भूलकर भी काला कपड़ा ना पहनें. हिंदू धर्म में काला कपड़ा अशुभ माना जाता है.
उपवास के दौरान ब्रह्मचर्य का पालन करें. ऐसा करने से व्रत में सफल होता है. 
यदि किसी कारणवश आपका व्रत खंडित या छूट जाए तो संकल्पित व्रतों की संख्‍या में एक और दिन व्रत करके उसे पूरा करें. 
उपवास करने के दिन भूलकर भी क्रोध ना करें और अपने मन में किसी प्रकार का नकारात्मक विचार ना रखें।
व्रत वाले दिन हमेशा हल्का सुपाच्य फलाहार करें और भूलकर भी तामसिक भोजन ना करें.
व्रत के पूर्ण होने पर उसका विधि-विधान से उद्यापन करें और अधिक से अधिक लोगों को प्रसाद बांटते हुए घर के बड़े-बुजुर्गों का आशीर्वाद लें.

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.
ये भी पढ़ें :- Puja Niyam On Shivling: भूलकर भी शिवलिंग में ना चढ़ाएं ये 8 चीजें, महादेव हो जाएंगे नाराज
Nirjala Ekadashi 2022: निर्जला एकादशी व्रत में क्या करें और क्या न करें? जानें व्रत संकल्प और पारण मुहूर्त

Upwas Ke Niyam: हिंदू धर्म में तमाम तरह के व्रत ईश्वरीय कृपा पाने से लेकर तमाम तरह की मनोकामनाओं को पूरा करने के लिए किया जाता है. इसलिए व्रत रखते समय कुछ बातों का खास ध्यान रखना चाहिए .

  • हिंदू धर्म के अनुसार व्रत का संकल्प हमेशा शुभ मुहूर्त या ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करने के बाद ही लें. 
  • यह समय बहुत ही शुभ माना जाता है.संकल्प के बिना व्रत अपूर्ण माना जाता है इसलिए कितनी संख्या में और कब तक व्रत करना है, इसका संकल्प व्रत प्रारंभ करने के लिए पूर्व कर लेना चाहिए.
  • व्रत रखने की सोच रहे हैं तो किसी शुभ मुहूर्त में ही आरंभ करें ताकि यह बिना किसी बाधा या रुकावट के पूर्ण हो सके.
  • व्रत वाले दिन किसी के प्रति ईष्र्या, द्वेष, गुस्सा आदि नहीं करें .व्रत वाले दिन अधिक से अधिक समय तक मौन रहते हुए अपने इष्टदेव से जुड़े मंत्र का जप करें. 
  • व्रत रखने वाले व्यक्ति को हमेशा व्रत से जुड़े नियमों का पालन करें.
  • व्रत के दिन प्रातः काल स्नान करके घर और पूजा स्थल की अच्छे से सफाई करें.
  • भगवान की मूर्ति पर पूजा स्थल पर स्थापित करके ही उनकी पूजा करें.
  • पूजा हमेशा विधि विधान एंव मंत्रों के साथ करें.
  • व्रत के दिन सुबह जल्दी स्नान करके स्वच्छ वस्त्र धारण करें. 
  • व्रत के दिन भूलकर भी काला कपड़ा ना पहनें. हिंदू धर्म में काला कपड़ा अशुभ माना जाता है.
  • उपवास के दौरान ब्रह्मचर्य का पालन करें. ऐसा करने से व्रत में सफल होता है. 
  • यदि किसी कारणवश आपका व्रत खंडित या छूट जाए तो संकल्पित व्रतों की संख्‍या में एक और दिन व्रत करके उसे पूरा करें. 
  • उपवास करने के दिन भूलकर भी क्रोध ना करें और अपने मन में किसी प्रकार का नकारात्मक विचार ना रखें।
  • व्रत वाले दिन हमेशा हल्का सुपाच्य फलाहार करें और भूलकर भी तामसिक भोजन ना करें.
  • व्रत के पूर्ण होने पर उसका विधि-विधान से उद्यापन करें और अधिक से अधिक लोगों को प्रसाद बांटते हुए घर के बड़े-बुजुर्गों का आशीर्वाद लें.

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

ये भी पढ़ें :- Puja Niyam On Shivling: भूलकर भी शिवलिंग में ना चढ़ाएं ये 8 चीजें, महादेव हो जाएंगे नाराज

Nirjala Ekadashi 2022: निर्जला एकादशी व्रत में क्या करें और क्या न करें? जानें व्रत संकल्प और पारण मुहूर्त

[ad_2]

Source link

You may also like